इल्तजा

रंग में रंगने की है इल्तजा
भंग न करना रे ये प्रार्थना।
ज्योत हुं दिए की
तू मेरी आभा
गहराई नाप लो
मैं तेरा गाभा
अद्वैत दोनों ना शमा न परवाना।।
रिश्ता है पीड़ा
दर्द की भाषा
जिस्म है सजा
एक है आत्मा
अमर्त्य जीवन ही अभिलाषा।।
रंग न कोई
दंभ न कोई
संग न कोई
साथ न कोई
श्याम हो मेरे अब मैं बनु राधा।।
🍁
वृषाली सानप काळे

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान