जुदाई

अब ना सही जाये  तेरी जुदाई
नाही बनो बाबा तुम हरजाई...!!
🌺
सारी परीक्षाये भी अब  है बीती
भक्ति की निभाओ अब ये निति
करो उद्धार मेरा अब घडी आई.
नाही बनो बाबा तुम हरजाई..!!
🌹
जगरित उल्टी ना बने ये पल्टी
उड़ आउ तेरे द्वार सुन मनकी
मेरी वफ़ा क्यों तुमको नही भाई.
नाही बनो बाबा तुम हरजाई
🌻
युग युग से बस तुम ही आये
आ तारणहार अब ले जाये
कसम तुम्हे जो आँख बहाई..!!
नाही बनो बाबा तुम हरजाई..!!
💐
आग बना या धूल बना के ले जा.
साज सजा या फूल बना के ले जा
पलको ने है दिल मेरी बिछाई..
नाही बनो बाबा तुम हरजाई...!!
🌷
- वृषाली सानप काळे

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान