खुदा

कितनी गवाई तूने जिंदगी
फिर भी न जानी वो बन्दगी
खुदा खुदाई उसकी सादगी
हसीन प्यारी है वो बन्दगी

देखो न ढूंढो उसकी ताजगी
दिल से पुकारो है लाजमी
अम्बर से परे जहां से न्यारे
अलौकिक पाक है वो जिंदगी

साकार नही वो समस्त नही 
कटे न फटे वो तो अस्त नही
निर्माण स्वरूप वो ध्वस्त नही
संवारे आत्मा की आवारगी

ज्ञान गुण प्रेम वो है नीति
निराकार है वो है ये निश्चिती
भांप न पावोगे उसकी गति
अब तो जागो बीतेगी जिंदगी
🙏
- वृषाली सानप काले

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान