प्यार

प्यार से ही कहो साथी
बना दो मुझको बाती...।।
प्यार प्यार सिखाये भी
हँसना तथा रोना भी..।।

   प्यार कब किया जाए
  ये तो बस हो ही जाए..।।
  जैसे सूरज की लाली
  जैसे रुत सावन वाली..।।

बेमिसाल जज्बात 
भावनाओं की सौगात..।।
ख़ुशनुमा एहसास
प्यार जीने का अंदाज...!!

  ये तो दुनिया की ताकत
ये फरिश्तों की चाहत..।।
  ये सुकुन सजी जिंदगी
ये जुगनू की लौ बंदगी...!!

डूबने से ही मिले जन्नत
किनारे क्या लोगे उल्फत...??
छु लो बनो करो इनायत
खुदा की प्यारी  मोहोब्बत..!!
~~~~~~~~~~~~~~~~
- वृषाली सानप काले 

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान