साथी

कुछ तो मजबूरियाँ है जीवन में साथी,

तेरी जुदाई से प्यार किस को है जाना
🌹
तेरे दिल में रहेंगे, एक याद बनकर
तेरे लब पे सजेंगे, मुस्कान बनकर 

🌹
कभी मुझे अपने से, जुदा मत समझना 
तेरे साथ चलेंगे, आसमान बनकर

🌹
-
'अनजान मुसाफ़िर' 

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान