जीवन रास ना आए

गुरु बिन जीवन रास न आये
गुरु पाये तो सारा जग पाये..।।

गुरु अंधे की लाठी जैसा
गुरु कस्बे की माटी जैसा
मिट-मिट कर जो उपज लगाए..
गुरु पाये तो सारा जग पाये..।।

गुरु शिष्य का नाता ही ऐसा
कुम्हार मिटटी का रिश्ता जैसा
मार मार के नेक मूरत जो बनाये
गुरु बिन जीवन रास ना आये..।।

गुरु मिले तो चारो धाम हमारे
गुरु होले तो सत जन्म हमारे
गुरु से युगों की भी पूंजी पाये..
गुरु बिन जीवन रास ना आये..।।
💐🙏💐
- वृषाली सानप काळे

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान