ए ज़िंदगी बता

ऐ जिंदगी बता तू बदल गयी कैसे
ऐ जिंदगी बता तू सवर गयी कैसे...??

जमी भी न थी तूने आसमा बनाया
इम्तहानों की डगर तर गयी कैसे...??

कफ़न दफन दुश्मनी की बस्ती में जीना था
बागबानी सा गुलशन नजर कर गयी कैसे..??

गुनहगारों के आंचल में बेदाग हँसना था
नापाक जहाँ में पाक मुक्कदर कर गयी कैसे...??

तेरे मुक्कदर का बता वो कौन मसिहा 
जो तेरे तस्सवुर का जहर हर गयी कैसे...??
🌹🌹🌹
- वृषाली सानप काले

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान