आपका आना

आपका आना
- Kaushalya


सुरमयी शाम लाती है रात का पैगाम ,
होती है हर रात की सुबह नयी,
भोर से होती है हर दिन की शुरुआतनयी,
वैसे ही....
आप आए सुबह की भोर बनके,
और मेरे जीवन की हुयी शुरुआत नयी।


(*_*)

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान