रिश्ता नहीं


कोई गिला नहीं, कोई शिकायत नहीं,
कैसे कह दे तुम हक़ीक़त नहीं।

क्यों रोके तुम्हें, क्यों टोकें तुम्हें,
जब तुमसे हमें मोहब्बत ही नहीं।

क्यों कहे तुमसे की आना-जाना कभी,
जब तुमसे हमारा कोई रिश्ता नहीं।

क्यों गोते लगाए वो उम्मीद के दरिया में,
जिसका कहीं कोई साहिल ही नहीं।

ठहर जाओ थोड़ा सा तुम्हें क्यों कहे,
जब तुम्हारे लिए हम कुछ भी नहीं।

- 'अनामिका' 


Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान