ताक़त

गुरु मेरी शक्ति
        गुरु मेरी भक्ति
गुरु बिन मिले न
       जीवन को मुक्ति..।।
गुरु बिन तरे भी
        कैसे ये भवनिधि
गुरु बिन नाही रे
       कोई जीवन विधि...।।
गुरु सच्चा पारिस
        गुरु के ही वारिस
गुरु साँचा मालिक
       गुरु ही तो वालिद..।।
गुरु मेरा तारक
     गुरु मेरा चालक
गुरु तेरे साधक
    गुरु तेरे उपासक..।।
गुरु न तो संकर
      बीन जीवन कंकर
गुरु एक मंतर
      गुरु जीवन तंतर..।।
गुरु भाग्यविधाता
    गुरु जीवनदाता..
गुरु माता पिता
    गुरु सबका त्राता..।।
गुरु तेरी कृपा
      मेरे सद्गुरु नाथा
तेरे चरणों पर
    मैं शीश नवाता..।।

- वृषाली सानप काळे

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान