सरगोशियांँ


**************************************
एक बिजली सी गिरी दिल के चमन में,
धूम सी मच गई जैसे यादों के आलम में।
**************************************
जब तूने धीरे से कानों में कुछ कह दिया ऎसे,
तब खुश्बू से तेरी जैसे महक उठी मेरी साँसें।
**************************************
जब आँखें खुले बस तेरा ही दीदार हो,
गुजा़र दू यूँ ही सारी उमर तेरे दीदार में।
**************************************
तेरी सरगोशियांँ सुन मेरी अंखियाँ ख्वाब संजोने लगी,
तेरी चाहत ने भिगोया इस कदर की मदहोश हो गए।
**************************************
सुकून और चैन बसे है तेरे नगर में,
हम तो तेरी चाहत को समेटे बैठे हैं।
**************************************
तेरे अल्फाज़ से जुड़ ने लगे मेरे जज़्बात,
तेरी कशिश में बहकने लगे मेरे दिन-रात।
**************************************
तेरी सरगोशियाँ सुन, मेरे दिल के तार छिड़ से गए,
दिल की सूनी दुनिया थी, तेरे आने से यूँ आबाद हुई
**************************************
कौन समझा है ख़ामोश से दिल के जज़्बात,
वो तो सिर्फ कहने सुनाने से बात बनती है।
**************************************
मांग लूँ तुझे दिल की हर दुआओं में,
कर लूँ हांसिल तुझे इस कायनात से।
**************************************
तेरी सरगोशि ने मचा दी हलचल,
गूँज उठी चहूँ ओर तेरी फ़ितरत।
**************************************
सरगोशियाँ = कानाफूसी, धीरे से कान में कहना

- कौशल्या वाघेला

Comments

Popular posts from this blog

प्राचीन भारतीय आर्य भाषा की विशेषताएं

संस्कृत भाषा के शब्द भंडार से सम्बंधित बातें

इम्तिहान